​कोविड मामलों की संख्या 40 हजार तक पहुंच जाएगी

-40-

IIT प्रोफेसर द्वारा किए गए अध्ययन के अनुसार, मामलों की संख्या हर दिन लगभग 40 हजार मामलों तक अपने पीक पर पहुंच जाएगी । कोरोना की तीसरी लहर का पीक जनवरी के मध्य में हिट होने की उम्मीद है। बता दें कि वर्तमान में दिल्ली में हर दिन 22 हजार से ज्यादा मामले दर्ज हो रहे हैं। भारत में गुरूवार को 2,47,317 नए केविड मामले दर्ज किए गए हैं, जो मई के बाद सबसे ज्यादा हैं। देश का ओमिक्रॉन टैली अब 5,488 है।

​मार्च के मिड में तीसरी लहर हो जाएगी खत्म

प्रोफसर अग्रवाल कहते हैं कि ‘अगर जनवरी के मिड में पीक होगा , तो मार्च के मिड तक तीसरी लहर खत्म हो जाएगी। उनका अध्ययन इस बात से अहसमत है, कि चुनावी रैलियां वायरस का सुपर स्प्रेडर है’। वह कहते हैं कि ‘यदि आप केवल चुनावी रैलियों को प्रसार का कारण मानते हैं, तो यह गलत है। जो लोग यह मानते हैं कि चुनावी रैलियों को बंद करके आप वायरस को फैलने से रोक देंगे, तो यह सही नहीं है’।

​अगले महीने तक कम हो जाएगा स्पाइक

IISc और ISI के रिसर्चर्स द्वारा किए गए कोविड-19 में तेजी पर रिसर्च स्टडी ने प्रोफेसर अग्रवाल की स्टडी की पुष्टि की है। रिपोर्ट के अनुसार IISc और ISI शोधकर्ताओं का दावा है कि देशभर में कोविड-19 मामलों में स्पाइक अगले महीने कम होना शुरू हो जाएगा। हालांकि यह अलग-अलग राज्यों में अलग-अलग होगा। उन्होंने यह भी कहा है कि ‘कोविड मामलों का जो कर्व बन रहा है, वो मार्च अप्रैल तक समतल हो जाएगा। लेकिन पीक के दौरान देश में हर दिन 8 लाख से ज्यादा मामले दिखाई देंगे’।

​आने वाले हफ्तों में हर दिन दर्ज होंगे कोविड+ के 1 मिलियन मामले

-1-

IPE Global के हिमांशु सिक्का ने कहा है कि ‘अगले कुछ हफ्तों में हम संख्या में वृद्धि देख सकते हैं। हर दिन एक मिलियन पॉजीटिव मामले दर्ज किए जा सकते हैं’। वॉशिंगटन स्थित सेंटर फॉर डिसीज डायनामिक्स , इकोनॉमिक्स एंड पॉलिसी (CDDEP) के निदेशक प्रोफेसर रामनन लक्ष्मीनारायण ने बताया कि भारत में ओमिक्रॉन से चलने वाली लहर अन्य देशें की तुलना में बहुत खतरनाक होगी।

बता दें कि अन्य विशेषज्ञों ने भी फरवरी से कोविड मामलों में गिरावट और जनवरी मिड के आसपास पीक बताया है। कोरोनावायरस के प्रसार को रोकने के लिए राज्य सरकारों ने वीकेंड और छुट्टियों के दौरान लोगों की आवाजाही पर प्रतिबंध लगा दिया है।

अंग्रेजी में इस स्‍टोरी को पढ़ने के लिए यहां क्‍लिक करें

डिस्क्लेमर: यह लेख केवल सामान्य जानकारी के लिए है। यह किसी भी तरह से किसी दवा या इलाज का विकल्प नहीं हो सकता। ज्यादा जानकारी के लिए हमेशा अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

content credit: Nav Bharat Times