कोरोना वायरस को आए हुए हमारे बीच दो साल से ज्यादा का समय हो चुका है। इस बीच रिसर्च करने वाले लोगों ने इसके टेस्ट को लेकर एक नई ऊंचाई हासिल कर ली हैं। कहां तो पहले टेस्टिंग किट बाहर से मंगवानी पड़ती थी और टेस्ट के परिणाम आने में समय लग जाता था। लेकिन वहीं आज बाजार में कई टेस्टिंग किट मौजूद हैं जिसके जरिए आप खुद का कोरोना टेस्ट कर सकते हैं और तुरंत ही परिणाम भी जान सकते हैं। यह रैपिड टेस्ट किट आपको बता सकती हैं कि आप पर कोविड का खतरा है या नहीं।

वहीं कोरोना के बढ़ते नए वेरिएंट ओमिक्रोन के मामलों के बीच टेस्टिंग किट की मांग में बहुत बड़ा इजाफा हुआ है, इस टेस्टिंग किट के जरिए लोग आसानी से देख सकते हैं कि वह संक्रमित है या नहीं। लेकिन क्या यह होम बेस्ड टेस्ट किट ओमिक्रोन वेरिएंट का पता लगा सकता है। आइए जानते हैं इस बारे में विस्तार से।

​होम बेस्ड टेस्ट किट या आरटी पीसीआर टेस्ट कौन सा सही

जब बात कोविड टेस्ट की आती है तो रैपिड एंटीजन किट और आरटी पीसीआर टेस्ट दोनों ही संक्रमण का पता लगाते हैं। लेकिन आरटी पीसीआर टेस्ट के परिणाम आने में थोड़ा समय लगता है। वहीं एंटीजन रैपिड टेस्ट किट के जरिए बहुत जल्दी संक्रमण का पता चल जाता है।

हालांकि एंटीजन टेस्ट एक ऐसी तकनीक पर आधारित है, जो बताता है कि वायरस के तनाव में प्रोटीन का पता लगाता है और बताता है कि व्यक्ति संक्रमित है या नहीं। वहीं अगर बाद मॉलिक्यूलर टेस्ट या आरटी पीसीआर टेस्ट के जरिए पता चलता है कि व्यक्ति के अंदर वायरस का कौन सा स्ट्रेन है यह भी पता चल जाता है और यह बेहद सटीक परिणाम देता है।

आपको बता दें कि यह दोनों ही टेस्ट एक ही तरीके से किए जाते हैं। यानी नाक और गले के जरिए, इस टेस्ट में व्यक्ति के नाक या मुंह में मौजूद लार के जरिए वायरस की उपस्थिति देखी जाती है और पता लगाया जाता है कि व्यक्ति संक्रमित है या नहीं।

​कितना भरोसेमंद है घर पर टेस्ट करना

विशेषज्ञों की मानें तो रैपिड होम टेस्ट के जरिए कोविड टेस्ट का न केवल जल्दी परिणाम मिल जाता है। बल्कि यह अब तक एक यह कुशल भी साबित रहा है। वहीं आरटी पीसीआर टेस्ट के मुकाबले यह थोड़ा इनएक्यूरेट हो सकता है। क्योंकि यह महज 15 ही मिनट के अंदर आपको टेस्ट का रिजल्ट बता देता है। पर इसे पूरी तरह बेकार नहीं कहा जा सकता और यह घर में कोविड टेस्ट करने का एक बेहतरीन विकल्प है।

इसके अलावा अगर बात आरटी पीसीआर टेस्ट की करें तो इसके परिणाम आने में समय इसलिए भी लगता है। क्योकि इस टेस्ट में सैंपल कई महंगी और नैदानिक प्रक्रियाओं से गुजरता है। वहीं एंटीजन रैपिड टेस्ट में वायरस की सतर पर पाए जाने वाले प्रोटीन की तलाश करता है। यही कारण भी है जिसकी वजह से रैपिड एंटीजन टेस्ट के जरिए जल्दी परिणाम हासिल हो जाते हैं।

​एंटीजन टेस्ट पॉजिटिव नेगेटिव कितना सही

कोरोना के लिए घर पर किए जाने वाला एंटीजन टेस्ट सस्ता तो है और यह जल्दी परिणाम भी दे सकता है। लेकिन यह कहा नहीं जा सकता कि यह 100 प्रतिशत सही है भी या नहीं। यानी एंटीजन टेस्ट के जरिए गलत परिणाम भी आ सकते हैं। इसके पीछे की वजह यह है कि एंटीजन टेस्ट केवल प्रोटीन के पार्ट को ही देखता है, न कि पूरे वायरस आरएनए को। इसलिए गलत परिणामों से बचने के लिए और एक सही परिणाम हासिल करने के लिए जरूरी है कि आप आरटी पीसीआर टेस्ट जरूर करवाएं। ताकि आपके संक्रमित होने या न होने का सटीक प्रमाण मिल सके।

​क्या एंटीजन टेस्ट से लग सकता है ओमिक्रोन का पता

ओमिक्रोन के बढ़ते मामलों के बीच एंटीजन रैपिड टेस्ट किट की मांग बढ़ गई है। हालांकि यह अभी देखा जाना बाकी है कि क्या इस टेस्ट से पता लग सकता भी है या नहीं। ऐसे में यूएस फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन ने हाल ही में बताया है कि रैपिड टेस्ट के जरिए कोरोना वायरस का पता लगाया जा सकता है। इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि व्यक्ति इसके कौन से वेरिएंट से संक्रमित है, चाहे इसमें वह अल्फा से संक्रमित हो, डेल्टा से, बीटा से या फिर ओमिक्रोन से। हालांकि पब्लिक हेल्थ एजेंसी ने यह भी साफ किया है कि ओमिक्रोन के मामले में यह कुछ शंका में डाल सकता है।

इसके अलावा यूएस इन्फेक्शियस डिजीज एक्सपर्ट से एंथनी फौसी का कहना है कि घर पर कोविड टेस्ट के जरिए ओमिक्रोन का पता चल जाए यह थोड़ा मुश्किल है। हालांकि व्यक्ति कोरोना से संक्रमित है या नहीं, इसे जांचने के लिए टेस्ट करना सबसे जरूरी कदम है। क्योंकि यह संक्रमित होने का तो बता ही सकता है, भले ही वेरिएंट के बारे में जानकारी न देता हो।

वही आरटी पीसीआर टेस्ट को सबसे ज्यादा एक्यूरेट माना जाता है। इसमें चाहे आप रैपिड टेस्ट की बात करें या घर में किए जाने वाले टेस्ट की। इन सभी में सबसे सटीक परिणाम देने वाला आरटी पीसीआर टेस्ट ही है।

​होम टेस्ट किट के बारे में जानना जरूरी

कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच यूनियन हेल्थ सेक्रेटरी राजेश भूषण और आईसीएमआर डीजी डॉक्टर बलराम ने राज्य और यूनियन टेरिटरी को घर पर ही कोविड टेस्ट को बढ़ावा देने को कहा है। उनके मुताबिक आरटी पीसीआर टेस्ट में समय लग सकता है। इसलिए जरूरी है कि परीक्षण के लिए होम टेस्टिंग को बढ़ावा दिया जाए।

इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च ने भारत के अंदर कई कंपनियों की टेस्ट किट को अप्रूव्ड कर दिया है। जिनके नाम कुछ इस प्रकार हैं, MyLab Discovery Solutions, Panbio COVID-29 antigen self-test by Abbott, Angstrom’s Angcard Covid 19 Antigen Rapid Test Kit आदि।

​ऐसे लक्षण दिखते ही कराएं टेस्ट

ताजा हालातों को देखते हुए कहा जा सकता है कि कोरोना किसी को भी और कभी भी हो सकता है। ऐसे में अगर आपको फीवर, खांसी, गले में दर्द, टेस्ट न आना, स्मेल न आना, और थकान जैसे लक्षण दिखाई दे तो तुरंत कोविड टेस्ट करा लें। इसमें भले ही आप कोविड वैक्सीन ले चुके हैं या नहीं, दोनों ही स्थिति में कोविड के लिए दिए गए नियमों का पालन करें और इसे फैलने से रोकें।

डिस्क्लेमर: यह लेख केवल सामान्य जानकारी के लिए है। यह किसी भी तरह से किसी दवा या इलाज का विकल्प नहीं हो सकता। ज्यादा जानकारी के लिए हमेशा अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

content credit: Nav Bharat Times